Home उत्तर बिहार विद्या भारती के लक्ष्य की पूर्ति में हमारी वंदना एक प्रमुख घटक

विद्या भारती के लक्ष्य की पूर्ति में हमारी वंदना एक प्रमुख घटक

488
0
Our worship is a major component in achieving the goal of Vidya Bharati

विद्या भारती के लक्ष्य की पूर्ति में हमारी वंदना एक प्रमुख घटक : अवनीश भटनागर

सिवान ( उत्तर बिहार ) : विद्या भारती विद्यालयों में पढ़ाने वाले विद्यार्थियों को संस्कारक्षम शिक्षा प्रदान करने तथा उन्हे देश-समाज के प्रति संवेदनशील बनाने के विद्या भारती के लक्ष्य की पूर्ति में वंदना एक प्रमुख घटक है । हमारे विद्यालयों में प्रति दिन किया जाने वाला वंदना पवित्रता और आध्यात्मिकता के वातावरण में विद्या की अधिष्ठात्री माँ सरस्वती, ओंकारस्वरूप परमात्मा तथा जीवन दायिनी-पालनकारिणी भारतमाता का चिंतन और श्रद्धा भाव का जागरण हमारे भैया-बहिनों के मन में एकाग्रता, आध्यात्मिकता, राष्ट्रभक्ति, ईश्वर निष्ठा तथा सामाजिक संवेदना और एकात्मता का भाव भरने में सफल हो यही वंदना का उद्देश्य है । उक्त बातें विद्या भारती के राष्ट्रीय महामंत्री अवनीश भटनागर ने गुरुवार, 10 अगस्त को शहर के मखदूम सराय स्थित महावीरी सरस्वती शिशु मंदिर में प्रातःकाल आयोजित वंदना सभा को संबोधित करते हुए कहीं।उन्होंने कहां कि विद्या भारती विद्यालयों के बच्चें प्रति दिन अपने वंदना में कहते है कि हे, हंस पर विराजमान, ज्ञान देने वाली माँ आपसे प्रार्थना है कि हमें विशुद्ध, निर्मल बुद्धि प्रदान करो । हे माँ, हमें ऐसा बल, शौर्य प्रदान करो जिसे प्राप्त कर हम भारतवर्ष को फिर से समस्त विश्व से श्रेष्ठ बना सकें।
हमारे हृदय में साहस, विनय के श्रेष्ठ गुण भर दो जिससे हम त्याग और तपस्या के मार्ग पर चलते हुए अपना जीवन यापन करें । हे माँ आप हमें सयम में रहने का, सत्यपथ पर चलने का, सबके प्रति स्नेह भाव रखने का वरदान दें ताकि हम स्वाभिमानपूर्वक इस संसार में रहें ।

गौरतलब हो कि महामंत्री श्री भटनागर के महावीरी शिशु मंदिर पहुंचने पर विद्यालय के संरक्षक प्रोफेसर शम्भू प्रसाद, उपाध्यक्ष डॉ मनोज मिश्र, सचिव कौशलेंद्र प्रताप व प्रधानाचार्य कमलेश्वर सिंह के नेतृत्व में भव्य स्वागत किया गया। बता दें कि विद्या भारती के राष्ट्रीय महामंत्री श्री भटनागर उत्तर बिहार के चार दिवसीय शैक्षिक संवर्धन कार्यक्रम के तीसरे दिन गुरुवार को महावीरी शिशु मंदिर के वंदना सभा में पहुंच कर विद्यालय में पढ़ने वाले नन्हे मुन्ने छात्र छात्राओं के साथ कहानियों के माध्यम से संवाद स्थापित किया। वंदना सभा के बाद वे विद्यालय परिसर में संचालित किए जा रहे शिशु वाटिका का अवलोकन किया। शिशु वाटिका में खेल – खेल के माध्यम से छोटे छोटे बच्चों को विद्या भारती के आचार्यों को द्वारा दी जा रही शिक्षा को देखकर श्री भटनागर काफी प्रभावित देखें। उन्होंने शिशु खंड के आचार्य बन्धु भगिनियों की सराहना करते हुए कहां कि छोटे बच्चों की प्रारंभिक शिक्षा में महावीरी शिशु मंदिर के आचार्यो के द्वारा लर्निंग टीचिंग मेटिरियल का प्रयोग बहुत ही सराहनीय कार्य है।

इस मौके पर विद्या भारती उत्तर पूर्व क्षेत्र के क्षेत्रीय संगठन मंत्री ख्यालीराम, लोक शिक्षा समिति बिहार के प्रदेश सचिव मुकेश नंदन, सह सचिव रामलाल सिंह, मुजफ्फरपुर विभाग निरीक्षक ललित कुमार राय, सिवान विभाग निरीक्षक राजेश कुमार रंजन, विद्या भारती के मीडिया प्रमुख नवीन सिंह परमार, सह प्रांत प्रचार प्रमुख ललन राय, प्रचार विभाग के प्रांतीय प्रचार टोली के सदस्य पत्रकार मिथिलेश कुमार सिंह, रवि कुमार श्रीवास्तव, सुनील कुमार ठाकुर,महावीरी विजयहाता के सचिव ओमप्रकाश दूबे, प्रधानाचार्य शम्भू शरण तिवारी, सेवा प्रमुख प्रमोद ठाकुर,विद्यालय के कोषाध्यक्ष अधिवक्ता ज्ञान प्रकाश, समिति सदस्य रमेश कुमार,दिलीप कुमार, सुनीता जयसवाल,टिंकू सिंह, प्रियंका पाण्डेय , आचार्य अशोक कुमार सिंह, अनुप कुमार, ब्रजेश कुमार सिंह, रामाकांत जी,मिलन कुमार सहित विद्यालय के सभी आचार्य बन्धु भगिनी एवं कर्मचारी उपस्थित थे। उक्त जानकारी लोक शिक्षा समिति बिहार के प्रचार प्रमुख नवीन सिंह परमार ने दीं।

Read More:  National Education Policy–2020 And Classroom Transactions

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here