Home हरियाणा विद्या भारती साहित्य केन्द्र का लोकार्पण

विद्या भारती साहित्य केन्द्र का लोकार्पण

109
0
विद्या भारती साहित्य केन्द्र का लोकार्पण

कुरुक्षेत्र। विद्या भारती संस्कृति शिक्षा संस्थान में समाज गौरव डॉ. हिम्मत सिंह सिन्हा स्मृति ग्रन्थ का विमोचन एवं विद्या भारती साहित्य केन्द्र का लोकार्पण किया गया। विद्या भारती के राष्ट्रीय संगठन मंत्री श्री गोबिन्द चन्द्र महंत ने कहा कि कि प्रो. सिन्हा छोटे-छोटे विषयों को इतनी सुंदरता से समझाते थे कि कठिन से कठिन विषय भी रोचक लगता था। उनके व्याख्यान अत्यंत ज्ञानप्रद होते थे। स्मृति ग्रन्थ के माध्यम से उनके विचारों को एक पीढ़ी से दूसरी पीढ़ी तकक पहुंचाना अत्यंत लाभप्रद रहेगा। डॉ. सिन्हा साहित्य जगत को आलोकित करते रहेंगे।

कुरुक्षेत्र विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो. सोमनाथ सचदेवा ने कहा कि डॉ. सिन्हा समाज के प्रत्येक वर्ग के साथ आत्मीयता से जुड़े रहे। संस्थान के निदेशक डॉ. रामेन्द्र सिंह ने कहा कि डॉ. हिम्मत सिंह सिन्हा जी के पास अमूल्य विचारों की अथाह सम्पदा थी। संस्कृति भवन में दिए गए उनके अमूल्य व्याख्यान संस्थान के यू-ट्यूब चैनल पर जीवंत हैं। संस्थान में शिक्षा, संस्कृति, बाल साहित्य, इतिहास, विज्ञान, मनोविज्ञान, वैदिक गणित, महापुरुषों के जीवन-चरित्र एवं आत्मकथाएं सरीखे अनेक विषयों पर 334 पुस्तकों एवं 129 चित्रों का संग्रह है। 

डॉ. हिम्मत सिंह सिन्हा स्मृति ग्रन्थ का विमोचन

अध्यक्षता विद्या भारती संस्कृति शिक्षा संस्थान के अध्यक्ष डॉ. ललित बिहारी गोस्वामी ने की। संस्थान के सचिव श्री वासुदेव प्रजापति, विद्या भारती उत्तर क्षेत्र के महामंत्री श्री देशराज शर्मा, संस्थान के सह-सचिव डॉ. पंकज शर्मा, डॉ. हिम्मत सिंह सिन्हा स्मृति ग्रन्थ के सम्पादक मंडल के सदस्य डॉ. रामेन्द्र सिंह, डॉ. सी.डी.एस. कौशल, डॉ. जयभगवान सिंगला, डॉ. मोहित गुप्ता, श्री संत कुमार, श्री प्रेमनारायण शुक्ला, डॉ. लालचंद गुप्त ‘मंगल’, डॉ. ऋषि गोयल, डॉ. हुकम सिंह, डॉ. ऋषिपाल, श्री सुरेन्द्र अत्रि, श्री जयभगवान सिंगला, श्री अनिल कुलश्रेष्ठ, डॉ. सिन्हा की पुत्री मीनाक्षी भारती तथा परिवार के सदस्य आदि उपस्थित रहे।

और पढ़ें : विद्या भारती प्रचार विभाग एवं अभिलेखागार विभाग की संयुक्त अखिल भारतीय बैठक

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here