Home पंजाब ‘RASE-23’ बना एक जन आंदोलन

‘RASE-23’ बना एक जन आंदोलन

178
0
RASE-23 became a mass movement, more than 2000 educational institutions were invited

वर्तमान की चुनौतियों और आवश्यकताओं को ध्यान में रखकर की जाएं शिक्षा की नवीन व्यवस्थाएं – विजय नड्डा

‘RASE-23’ बना एक जन आंदोलन, 2000 से भी अधिक शैक्षणिक संस्थानों को किया गया आमंत्रित

27 मई, जलंधर | महाकुंभ मात्र एक धार्मिक प्रथा या कार्यक्रम नहीं है बल्कि 12 वर्षों पश्चात समाज के ऋषियों, ज्ञानियों और मनस्वियों द्वारा तत्कालीन सामाजिक चुनौतियों और आवश्यकताओं पर गहनता से विचार मंथन करने को ‘महाकुंभ’ कहा जाता था | इस अवसर पर संपूर्ण देश के कोने – कोने से आए मनीषियों द्वारा समस्याओं पर चिंतन कर उनका समाधान खोजा जाता था | यह पद्धति पूर्णतः मनोवैज्ञानिक थी | ‘RASE-23’ में भी शिक्षा के सभी पहलुओं पर गंभीरतापूर्वक चिंतन मनन के बाद जो नवनीत प्राप्त होगा उससे शिक्षा की अनेक विसंगतियों का समाधान सरलता से हो सकेगा | इसी कारण ‘RASE-23’ को ‘शिक्षा का महाकुंभ’ नाम दिया गया है | यह विद्वतापूर्ण शब्द विद्या भारती उत्तर क्षेत्र संगठन मंत्री विजय नड्डा ने डी.ए.वी. यूनिवर्सिटी में एक पत्रकार वार्ता को संबोधित करते हुए कहे | उल्लेखनीय है कि 9, 10 व 11 जून को विद्या भारती, पंजाब द्वार एन.आई.टी. जलंधर के सहयोग से एन. आई.टी.में ‘RASE-23’ का आयोजन किया जा रहा है | इसी की जानकारी देने के लिए DAV यूनिवर्सिटी में एक प्रेस वार्ता का आयोजन किया गया था जिसमें मुख्य वार्ताकार विजय नड्डा थे | पत्रकार द्वारा पूछे गए एक प्रश्न के उत्तर में विजय नड्डा ने बताया कि पूरे देश में दो हजार से भी अधिक संपर्क किया जा चुका है जिनमें शिक्षण संस्थान, केंद्रीय मंत्री, शिक्षाविद, राज्यपाल, उपकुलपतियों, प्रशासनिक अधिकारियों और प्रदेशों के माननीय राज्यपाल शामिल हैं | केंद्रीय शिक्षा मंत्री और पंजाब के माननीय राज्यपाल ने ‘RASE-23’ में शामिल होने की स्वीकृति दे दी है | एक अन्य प्रश्न के उत्तर में नड्डा ने जानकारी दी कि इस कार्यक्रम के तीनों दिनों की ‘थीम’ अलग अलग होगी | 10 जून को प्राचीन भारतीय शिक्षा व्यवस्था जिसका पूरा विश्व गुणगान करता है, को वर्तमान परिस्थितियों के अनुसार लागू करना | 11 जून की थीम रहेगी ‘स्किल इंडिया’ जिसके अंतर्गत ‘हम नौकरी देने वाले बनें न कि नौकरी मांगने वाले | 12 जून का मुख्य विषय रहेगा ‘स्कूली व उच्च शिक्षा में तालमेल’ | नड्डा ने कहा कि बड़े बड़े कालेजों और विश्व विद्यालयों में उच्च शिक्षा प्राप्त व अनुभवी स्टाफ होता है | इनको शिक्षा में ‘बिग ब्रदर’ की भूमिका में कार्य करते हुए 10 – 15 स्कूलों का विकास करना चाहिए |

इससे पूर्व विजय नड्डा ने मां सरस्वती के समक्ष दीप प्रज्वलित कर RASE-23 के कार्यालय का उद्घाटन किया | डी.ए.वी. यूनिवर्सिटी में शिक्षा महाकुंभ की व्यवस्था देखने वाले डा.राहुल ने सभी का परिचय करवाया | डी. ए. वी. यूनिवर्सिटी के रजिस्ट्रार ने करतल ध्वनि के मध्य एसोचेम से पिछले वर्ष मई, दिसंबर और इस वर्ष मई में प्राप्त तीन पुरस्कारों का प्रदर्शन किया | अंत में डीन आर. के. सेठ ने आए हुए सभी आतिथियों और पत्रकारों का धन्यवाद किया | उल्लेखनीय है कि इस प्रेस वार्ता में जलंधर के सभी प्रमुख पत्रकार और इलेक्ट्रानिक मीडिया के लोग आए हुए थे | इस अवसर पर विजय नड्डा के अतिरिक्त RASE-23 के पंजाब के प्रमुख मनदीप तिवारी, विद्या भारती पंजाब के वित्त सचिव विजय ठाकुर, प्रकाशन सोसाइटी के महामंत्री मुनीश शर्मा आदि मुख्यरूप से उपस्थित रहे |      

फोटो की कैप्शन –

  1. कार्यालय का उद्घाटन करते हुए विजय नड्डा, साथ में हैं विजय ठाकुर और रजिस्ट्रार कौल साहब
  2. प्राप्त पुरस्कार का प्रदर्शन करते हुए (बाएं से दाएं) डा. राहुल, रजिस्ट्रार कौल साहब, विजय नड्डा और डीन आर.के.सेठ 

और पढ़ें : “सुनो बेटी” प्रकल्प

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here